मंगलवार, 30 नवंबर 2010

रविवार, 28 नवंबर 2010

श्रीश अंकल की शादी में गयी पार्थवी Shrish Benjwal Sharma uncle

श्रीश अंकल की शादी में गयी पार्थवी,
नाची डीजे पर ,खाई आईसक्रीम और चाउमीन.. देखी  दुल्हनीयाँ प्यारी
आप भी देखो,
 है ना खुश पार्थवी जी










ओके बाय बाय फिर मिलते है |

शुक्रवार, 19 नवंबर 2010

तीन से भाजन की रोचक बाते Division by Three

तीन से भाजन की रोचक बाते Division by Three
1.कोई भी संख्या जिस के अंकों का योग तीन से विभाजित होता है वह संख्या भी तीन से विभाजित होगी 
जैसे ,
1035 के अंको का योग 
1+0+3+5=9
तो ये योग 9 जो की 3 से विभाजित हो जाता है
9/3=3
इसलिए 
1035/3=345
2. कोई भी तीन एक समान अंकों से बनी संख्या जैसे 
111,222,333,444,555,666,777,888,999,101010,111111,121212,131313,-------,-----
सभी 3 से विभाजित होती है 
3. कोई भी तीन अंकों से बनी संख्या जिसके तीनो अंक एक क्रम  में यानी लगातार हों 3 से विभाजित होती है जैसे,
123,234,345,456,567,678,789,8910,101112,111213,121314,131415,---------,------
है न मजेदार बात ......    
अब आपने बताना है नीचे का प्रश्न ?
  कोई भी संख्या जो तीन लगातार अंको के गुणनफल से बनी हो वो भी 3 से विभाजित होती है जैसे 
17x18x19=5814
5814/3=1938
ऐसा क्यूँ होता है ?

 

सोमवार, 15 नवंबर 2010

मजेदार चित्र गणित में भी होते है | Funny pics

मजेदार चित्र गणित में भी होते है | Funny pics 
अंतर्जाल विचरण के दौरान कुछ मजेदार चित्र हाथ लगे आप भी देखें | इन को देख कर हँसते  जाना है बिना रुके |
नम्बर एक 
तीन प्रकार की प्रायिकता तक तो चलो मान ले पर ये चौथी कमाल है |   






नम्बर दो 


 ये तो होना ही था








 ये तो होना ही था 







 ये तो होना ही था एक दिन ??




नम्बर तीन 
ये भी कूल तरीका है 












 नम्बर चार 
   क्या एक्स्पैंड किया है 





अगर थोडा और ज्यादा करना पड़ जाता तब ??  




कागज  खत्म हो गया था ?



नम्बर पांच 
क्या छक्का मारा है



















नम्बर छह 


हा हा ......














वाह वाह ......




नम्बर सात  
बन जाओ न फिर पाई जी और माईन्स वन जी
नम्बर आठ 
यहाँ बच्चे से पूछा गया Find X और उसने चित्र में कितनी जल्दी खोज दिया

संग्रह किये  गए चित्र 
साभार गूगल इमेज

 

गुरुवार, 11 नवंबर 2010

कोई तो इसे हल करे ? Anyone solve this Puzzle?

कोई तो इसे हल करे ? Anyone solve this Puzzle?

एक आदमी घर से कुछ पैसे/रूपये ले कर 5 मंदिर में मत्था टेकने जाता है|
पहले मंदिर के बाहर बैठे एक भिखारी को वो 5/- रूपये देता है और फिर मंदिर में जाता है मंदिर में पहुँचते ही उसकी पॉकिट के सारे पैसे/रूपये  दुगने हो जाते है,
वह  खुश होता है और मंदिर में कुछ नहीं चढ़ाता और  वापस बाहर आ कर उस भिखारी को फिर से 5/- रूपये दे देता है और दूसरे मंदिर में प्रवेश करने से पहले वो उस मंदिर के बहार वाले भिखारी को 5/-देकर अंदर जाते ही उसकी पॉकिट का धन फिर से दुगना हो जाता है,
वापस आकर वह फिर से उसको 5/- रूपये देता है और तीसरे मंदिर में प्रवेश कर जाता है|
इसी तरह चौथे मंदिर,
इसी तरह पांचवे मंदिर से बाहर आते उसकी पॉकिट में केवल 5/-* रूपये  ही बचते है वह भी वो उस भिखारी को दे देता है और खाली जेब हो जाता है|
भगवान की माया समझ कर कि तू ही देता, तू ही लेता, तू ही दौगने करता है मान कर घर आ जाता है 
परन्तु आपने यह बताना है ?
वो भगत जी घर से कितनी राशि ले कर चले थे ?

नोट :आते और जाते दोनों बार वह भिखारी को 5/-रूपये देता है
*अंतिम बार २-३  पैसे कम ज्यादा होने की छूट है| 
(चित्र गूगल से)  
कोई मुझे ये भी बताने की कृपा करे कि भारतीय मुद्रा रूपये का जो चिन्ह आया है उसको की-बोर्ड से कैसे बनाया जाता है :)

मंगलवार, 9 नवंबर 2010

मरजाना अमीबा ये एककोशीय जीव होता है ...Amoeba single celled organism

एक पुराना गुर रट्टा ..... Cram an old method
यूँ ही नहीं आ जाती किसी विषय में महारत उस के लिए करनी पडती है मेहनत और मेहनत भी तब होती है जब रूचि हो और रूचि जन्मजात नहीं होती जगानी पडती है जगा कर बढानी पडती है |
अनुकूल वातावरण मिले और आपकी रूचि में कोई रूचि लेने वाला हो और कोई उस रूचि को कोई सुपोर्ट करने वाला हो तो कामयाबी मिलती है जरूर
मेरे  कहने का मतलब ये है कि जब छोटी थी तो अपने को ओरों से अलग दिखने की चाहत में मे गणित के और सामान्य ज्ञान के या कोई भी ऐसी ज्ञान वर्धक बात जो की मेरी बड़ी तीन बहनों और पिताजी (बाउजी) से सुनती तो कक्षा में जा कर उस बात को अपनी बना कर कहना और फिर कई कई दिन बाद उस पहेली का जवाब देना तर्क वितर्क और ना नुकर,इतराना और फिर बताना से अचानक गणित में रूचि बन गई सुविधा के आभाव में रट्टा बजा बजा कर जो सवाल समझ न आना उसे याद कर लेना खेल बन गया |
कक्षा आठ की बात है मैं रट  रही थी अमीबा एककोशीय जीव होता है...... अमीबा एककोशीय जीव होता है ...........
ये नंगी आँख से नहीं दीखता............ इसको सूक्ष्मदर्शी की सहायता से देखा जाता है 
जोर जोर से बोल कर ....रट्टा दे रट्टे पे रट्टा  
ताहि तन्द्रा टूटी दीदी ने कहा जा बहार देख नाली में एक अमीबा मरा पड़ा है और मै किताब छोड़ भागी देखने अमीबा .......हा हा 
वो भी मरा हुआ ..........नाली में
देख-दाख के आयी और बताया नहीं दिखा 
 यहाँ  नजर आयी कमी .....सूक्ष्मदर्शी,एककोशीय,नंगी आँख से नहीं दीखता और तू पढ़ ...तू ही रट और तू ही लिख शिक्षा की 
फिर मैंने कितनो को ही नाली में अमीबा  दर्शन को भेजा स्कूल में 
पर अब आया वास्तव में ......... बिना सूक्ष्मदर्शी के ही...... समझ आ गया एककोशीय और नंगी आँख से नहीं दीखता ...............है ये मरजाना अमीबा 
जिज्ञासा  जागी तो मैडम जी से मांग कर ली सूक्ष्मदर्शी पर ............
 सुविधाओं के आभावों से जूझता हमारा स्कूल मुझे और सब को पाठ्यपुस्तक में ही दिखा सका सूक्ष्मदर्शी का चित्र  और...और वो मरजाना  अमीबा शायद आज तक भी नहीं ........
कई वर्षों के बाद एक बार क्लिनिकल लैब में सूक्ष्मदर्शी को पहचान कर जो सुखद अनुभव हुआ ब्यान नहीं कर सकती... .
 



     

रविवार, 7 नवंबर 2010

कितने चूहे थे ? How many rats were ?

कितने चूहे थे ? How many rats were ?
एक  बिल्ली एक बार में 24 चूहे खा सकती है,
वह  पहले बिल में जाती है और  24 चूहे खा लेती है,
बाकी चूहे भाग कर दूसरे बिल में चले जाते है और वहां वाले चूहों के साथ मिल कर दुगने हो जाते है,
बिल्ली अगले दिन उस बिल के भी  24 चूहे खा लेती है,
बाकी चूहे भाग कर तीसरे  बिल में चले जाते है और वहां वाले चूहों के साथ मिल कर तिगुने हो जाते है,
बिल्ली अगले दिन उस बिल के भी 24 चूहे खा लेती है
बाकी चूहे भाग कर चौथे  बिल में चले जाते है और वहां वाले चूहों के साथ मिल कर चौगने  हो जाते है,
बिल्ली अगले दिन उस बिल के सभी  24 चूहे खा लेती है,
यानी चौथे बिल के बाद कोई चूहा शेष नहीं बचता |
अब बताना है कि,
पहले बिल में कुल कितने चूहे थे ? 
 

आप सभी का धन्यवाद
संगीता पुरी जी ने सबसे पहले दिया सही जवाब  और
संजय शर्मा जी, संगीता स्वरुप (गीत)जी,सोनू मानसी जी(गिरीश जी),प्रकाश गोविन्द जी,अन्तर सोहिल जी, और उन्मुक्त जी के भी ज़वाब सही है,इन सब को भी फिर से धन्यवाद :))

गुरुवार, 4 नवंबर 2010

इसमे क्या गलती है ?? what is the Mistake in this ??

इसमे क्या गलती है ?? what is the  Mistake in this ??
सिद्ध करो :
एक रुपया =एक पैसा
गणितीय  हल :
बायां भाग लेने पर (L.H.S.) = एक रुपया
                                            =100 पैसे 
                                            =10 पैसे x 10 पैसे 
                                            =0.1रुपया x 0.1रुपया ( 10 पैसे=0.1रुपया)
                                            =0.01  रुपया
                                            = 1पैसा   
                                            = दायाँ भाग (R.H.S.)
                                    LHS=RHS  
इसमें क्या गलती है ,इसको सिद्ध करने में कोई गलती है उसको खोजना है ?
उन्मुक्त  जी ने ई मेल द्वारा ये हल भेजा यह ब्लॉग उनका आभार व्यक्त करता है |
It is good puzzle and teaches fundamentals of Maths. Not many people
understand this difference. Your students are lucky to have you as Maths
teacher.
This is how the puzzle has been put
एक रुपया =100 पैसे =10 पैसे x 10 पैसे =0.1रुपया x 0.1रुपया ( 10
पैसे=0.1रुपया) =0.01  रुपया  = 1पैसा
The mistake lies in treating 100 पैसे =10 पैसे x 10 पैसे. In fact
100 पैसे is not equal to 10 पैसे x 10 पैसे. Multiplication is nothing
but addition. One cannot add 10 paisa, 10 paisa times. On the contrary
100 पैसे =10 पैसे x 10 e.i. 10 paisa added 10 times.

In fact 10 पैसे x 10 पैसे = 100 (पैसे)^2  or in other words 100 paise

square. The unit (पैसे)^2 or paisa square is different unit than paisa.
आप  सब का धन्यवाद जी