बुधवार, 9 जून 2010

बच्चे को मिला छाता

बच्चे को मिला छाता 

              माँ माँ मुझे ले दो छाता 
                     वर्षा में मेरा बास्ता भीगा  
              भीग गयी सारी  किताबे 
                     कापियां  जुते और जुराबे
              सौ रुपैयों का आया छाता 
                     मन को मेरे भाया छाता 
              बिना बारिश के भी अब 
                    बच्चा लेकर घुमे छाता 
              U  से होता है  अम्ब्रेला
                     देखने जाऊ आज मै मेला 
              पापा जी लेकर आये हांजी 
                       छाता मेरा बड़ा अलबेला 
                                                           पार्थवी
                  
 

7 टिप्‍पणियां:

abhi ने कहा…

हा हा ,मस्त...हम भी पहले छाता लेकर जाते थे चाहे बारिश हो या न हो :)

चलो पापा जी ने छाता तो ले ही आये न आपके लिए :)

mrityunjay kumar rai ने कहा…

nice post

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

हाँ, अब तो बरसात भी आ रही है। छाता तो आना ही चाहिए।
--------
ब्लॉगवाणी माहौल खराब कर रहा है?

Darshan Lal Baweja ने कहा…

पार्थवी की मुस्कान से पता चलता है वो छाता मिलने से कितनी ज्यादा खुश है जी

भूतनाथ ने कहा…

waah.........kyaa baat hai....apan ka bacchhaa baahar nikal kar baarish men beegne lagaa.....

रंजन ने कहा…

बहुत प्यारी मुस्कान..

अल्पना वर्मा ने कहा…

बहुत प्यारी तस्वीरे है और कविता भी